My poems

Please leave your comments after going through the poems.....it helps me to write better :)

Wednesday, April 6, 2011

आप हमें बहुत अच्छे लगते हैं.


एक बात हमें आप से कहनी है,
सुन लो ज़रा तो कह  देते है.
   लगते तो आप   हमारे जैसे हैं,          
इसीलिए आप हमें अच्छे लगते हैं.


जब भी  आप हम से मिलते  हैं,            
गुमसुम से गुपचुप आप रहते हैं.
कुछ पागलों  जैसे  बातें करते हैं,
इसीलिए आप हमें अच्छे लगते हैं.


कड़ी धूप में भी  मिलने आते हैं
और  मन  ही मन मुस्कराते हैं.
हमारी  तरह क्या आप शरमाते हैं?
इसीलिए आप हमें अच्छे लगते हैं.


शायद  हम से थोड़ा डरते  हैं,
कुछ कहते कहते  रुकते हैं.
सच्चाई हम आप को बताते हैं,
आप हमें बहुत अच्छे लगते हैं.
 renukakkar 6.4.2011







2 comments:

  1. बहुत बढ़िया लिखा है आपने, रेनू जी.
    अच्छे भाव.
    लिखते रहिये.
    आपकी कलम को सलाम

    ReplyDelete